क्राइमदिल्ली एनसीआरराज्यहरियाणा

खनन माफिया ने हरियाणा में जमाए पैर

यमुना नगर के मांडे वाला में चल रहा अवैद खनन का कारोबार

बेहट  ( जमाना आज न्यूज़ ) खनन माफिया हाजी इकबाल द्वारा फर्जी मखोटी
कम्पनियां बनाकर अवैध रूप से अर्जित की गई अरबो रुपये की काली
कमाई से बनाई गई सम्पत्ति को कुर्क करने के लिये जहाँ उत्तर प्रदेश
सरकार के मुख्य योगी आदित्यनाथ का बुलडोजर अपना काम कर रहा
है।वही दूसरी और शातिर खनन माफिया पड़ोसी राज्य हरियाणा में अपना
अवैध कारोबार धड़ल्ले से जारी किए हुए है।सूत्रों की माने तो हरियाणा के
कुछ सफेदपोश नेता एवं अधिकारी भी इस अवैध कारोबार में संलिप्त
बताये जा रहे है। इस अवैध खनन माफिया के शातिर दिमाग के आगे बड़े
बड़े अधिकारी भी फेल होते दिखाई दे रहे हैं खनन माफिया उत्तर प्रदेश के
मुखिया के बुलडोजर के सामने तो नहीं टिक पा रहे हैं. परन्तु खनन माफिया
द्वारा बनाई गई 111 मुखोटा कम्पनियों में से बनी सहारनपुर माइन्स कम्पनी
के नाम से आज भी यूपी सीमा से सटे हरियाणा राज्य के जनपद यमुनानगर
के गांव मांडेवाला में खनन का अवैध कारोबार बदस्तूर जारी है।सूत्रों का
कहना है इस कार्य को खनन माफिया हाजी इक़बाल बाला के गुर्गे अंजाम
दे रहे है।बताया जाता है कि जनपद यमुनानगर में लगे कुछ स्टोन क्रेशरों
के स्वामी भी हाजी इक़बाल के संपर्क में रहते है जो अवैध रूप से काली
कमाई कमाकर देते है इतना ही नही अवैध रूप से हो रहे इस अवैध खनन
के कारोबार में स्थानीय सफेदपोश नेताओ का भी संरक्षण मिला हुआ है।सूत्रों
से जानकारी मिली है कि यूपी के इस खनन माफिया का हरियाणा में आना जाना लगा रहता है। जो हरियाणा के सफेदपोश नेताओ के संरक्षण के चलते
यूपी के अधिकारियों के पकड़ से बाहर है।
आप को बतादे कि इनके द्वारा बनाई गई कई कम्पनियां रडार पर है अब
तक गैगस्टर की कार्यवाही खनन माफिया हाजी इक़बाल उस के पुत्रों व
उसके सहयोगियों के खिलाफ हो चुकी है। पूर्व में दो सहयोगी जेल भी जा
चुके है और उनके एक नोकर नसीम अहमद की 21 करोड़ रु की बेनामी
सम्पत्ति प्रसाशन द्वारा कुर्क की जा चुकी है तथा हाजी इक़बाल द्वारा अवैध
रूप से अर्जित की गई बेनामी सम्पत्ति को प्रसाशन कुर्क करने की तैयारी
में लगा हुआ है लेकिन बाबा के बुलडोजर के डर से खनन माफिया हाजी
इक़बाल व उस के पुत्र गिरफ्तारी के चलते फरार चल रहे है। हालांकि
जिलाधिकारी अखिलेश सिंह व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर द्वारा
उनकी गिरफ्तारी को लेकर कई टीमें लगाई गई है जो अपना काम कर रही
है इन अधिकारियों का कहना है जो भी मुखोटा कम्पनियों के सम्पर्क में
व जुड़े हुए है वे भी रडार पर है और उनकी भी गिरफ्तारी जल्द होगी। इस
सम्बंध में जब यमुनानगर के खनन अधिकारी गुरजीत सिंह से जानकारी ली
तो उन्होंने बताया कि जनपद यमुनानगर के गांव मांडेवाला में सहारनपुर
के
माइंस कम्पनी के नाम से फरवरी 2022 से 18 हैक्टेयर में खनन पट्टा
स्वीकृत हुआ है जो चालू है। कम्पनी के डायरेक्टर का नाम जब जानना
चाहा तो उनका कहना था कि में नाम फाइल में देखकर ही बता सकता हूं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!