देश-दुनिया

पाकिस्तान: बिलावल भुट्टो जरदारी ने ली फेडरल मंत्री पद की शपथ

काफी उहापोह के बाद आखिरकार पाकिस्तान में बिलावल भुट्टो जरदारी ने मंत्री पद की शपथ ले ली. बिलावल भुट्टो पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो ओर पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के बेटे हैं. पाकिस्तान के डॉन अखबार के मुताबिक बुधवार को बिलावल ने फेडरल मंत्री के रूप में शपथ ली. खबर के मुताबिक राष्ट्रपति अरिफ अल्वी ने पीपीपी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो जरदारी को पद की शपथ दिलाई. बिलावल पाकिस्तान के पीएम शहबाज शरीफ के मंत्रीमंडल का हिस्सा बनेंगे. इस बात की ज्यादा संभावना है कि बिलावल पाकिस्तान के नए विदेश मंत्री बनेंगे. शपथ ग्रहण समारोह ऐवान-ए-सदर में हुआ जहां प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ भी उपस्थित थे.
बहन बख्तावर ने पहले ही ट्वीट कर दी बधाई
33 साल के बिलावल पहली बार 2018 में पाकिस्तान के नेशनल एसेंबली के सदस्य के तौर पर निर्वाचित हुए थे. पहली बार वे केंद्र में मंत्री बने हैं. हालांकि फिलहाल उनके विभाग के बारे में जानकारी नहीं दी गई है लेकिन उनकी बहन बख्तावर भुट्टो जरदारी ने शपथ लेने से पहले ही ट्वीट कर कर बिलावल को विदेश मंत्री के तौर पर बधाई दी है. बख्तावर भुट्टो ने ट्वीट किया, आज इस एकता सरकार में पाकिस्तान के विदेश मंत्री के रूप में बिलावल भुट्टो जरदारी शपथ लेंगे. हमें उनपर गर्व है. उन्होंने संसद में अपनी श्रेष्ठता साबित की है और हमेशा अपने लोकतांत्रिक मूल्यों पर अडिग रहे हैं. उन्हें आगे देखने के लिए उत्साहित हूं.
बिलावल के सामने चुनौतियों का अंबार
बिलावल भुट्टो ने खुद भी प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा था कि वे मंत्री पद की शपथ लेंगे. बहन के मुताबिक वे एक तरह से पाकिस्तान के विदेश मंत्री बन गए हैं. अब तक पाकिस्तान में 34 मंत्रियों ने शपथ ले ली है. पूर्व विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार पहले से ही विदेश राज्य मंत्री के रूप में पद संभाल रही है. बिलावल भुट्टो के सामने अमेरिका से अलग-थलग होने की पहली चुनौती सामने है. इसके अलावा भारत के साथ संबंधों को किस तरह आगे बढ़ाते हैं, यह उनके कौशल की परीक्षा होगी. बिलावल भुट्टो ने कहा है कि हमें यह समझना चाहिए कि यह साधारण मिली जुली सरकार नहीं है. पाकिस्तान के इतिहास में पहली बार हुआ कि विपक्षी बेंच से एकता सरकार ट्रेजरी बेंच की ओर गया है. हमारे लिए यह बड़ी चुनौती है. हम सबको अपना किरदार निभाना चाहिए और बोझ को आपस में मिलजुलकर कम करना चाहिए.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!